Search This Blog

Thursday, February 11, 2010

शिवरात्रि के दिन करने योग्य विशेष बातें




. शिवरात्रि के दिन की शुरुआत ये श्लोक बोल के शुरू करें :-


देव देव महादेव नीलकंठ नमोस्तुते l
कर्तुम इच्छा म्याहम प्रोक्तं, शिवरात्रि व्रतं तव ll

Listen Audio

२. किसी के घर में कम उम्र में लोग मर जाते हों तो वो बड़ा कटोरा लेकर उस में पानी भर के उस कटोरे में धातु का (मेटल का) कछुआ रखे l महामृत्युंजय मंत्र का जप करें और कछुए को तिलक कर के कटोरा ईशान कोण में रख दे ........ऐसा ७ या ११ अमावस्या तक करें ......लोटा पानी से भर के रखें ....७ वें या ११ वीं अमावस्या को गीता के ७ वें अध्याय का पाठ करें .....छत पे जाकर सूर्य भगवान को प्रार्थना करें कि.......यमराज आप का बेटा है, आप हमारी प्रार्थना उन तक पहुंचा दीजिये ....हमारे घर में ऐसी मृत्यु होती है.......दोबारा ऐसा ना हो इसलिए जो गुजर गए, उन को गीता पाठ का पुण्य अर्पण करते हैं.......ऐसा ७ या ११ अमावस्या तक करें l

३. काल सर्प के लिए महाशिवरात्रि के दिन घर के मुख्य दरवाजे पर पिसी हल्दी से स्वस्तिक बना देना....शिवलिंग पर दूध और बिल्व पत्र चढ़ाकर जप कराना और रात को ईशान कोण में मुख कर के जप करना l

४. शिवरात्रि के दिन ईशान कोण में मुख करके जप करने की महिमा विशेष है, क्यूंकि ईशान के स्वामी शिव जी हैं l रात को जप करें, ईशान को दिया जलाकर पूर्व के तरफ रखे, लेकिन हमारा मुख ईशान में हो तो विशेष लाभ होगा l जप करते समय झोखा आये तो खड़े होकर जप करना l

५. कल महाशिवरात्रि को कोई मंदिर जाकर शिव जी पे दूध चढाते हैं तो ये ५ मंत्र बोलें :-
ॐ हरये नमः
ॐ महेश्वराए नमः
ॐ शूलपानायाय नमः
ॐ पिनाकपनाये नमः
ॐ पशुपतये नमः

६. महाशिवरात्रि की रात को ११.४५ से १.३० बजे तक पूज्य सदगुरुदेवजी भगवान् के स्वास्थ्य और दीर्घायु के संकल्प से महामृत्युंजय मंत्र का जप करें, पहले ११ बार खुद बोले (११ माला नहीं, सिर्फ ११ बार बोले) फिर बापूजी को १ माला समर्पित करें l


Special aspects to take care on Shivratri

1. Start the prayers of Shivratri by reciting the following shloka:
DEVA DEVA MAHADEVA NEELKANTHA NAMOSTHUTE |

KARTUM ICHHA MYAAMAHAM PROKTAM, SHIVRATRI VRATAM TAVA ||

2. If someone passes away in your home at a young age, then take a large bowl of water and keep a metal tortoise in it. Recite Mahamrityunjaya matra and apply tilak on the tortoise and place it in the north east section of your home. Repeat this exercise for 7 to 11 amavasyas. Also recite the seventh chapter of Bhagvad Gita, then pray to Sun lord, that Lord Yama, is your son and we pray to you so that you may bestow happiness unto us and in order that such incidents are not repeated again in our home, please deliver the virtues of reading Bhagvad Gita to the deceased souls.

3. Those who have Kaal Sarp yog, they should draw a swastik using grounded turmeric on their main doors on the eve of Shivratri. Offer Bel leaves and milk to Shivlinga and do your japa facing towards north-east on that auspicious night.

4. There is speciality of reciting your japa while facing towards north-east on the night of Shivratri. This is true as Lord Shiva is the lord of the north east direction. Doing japa on this night is even more beneficial if done in this way. Remember if you feel sleepy, then do your japa while standing.

5. While offering prayers to Lord Shiva on the night of Shivratri, recite the following mantras.
AUM HARAYE NAMAH
AUM MAHESHWARAAYA NAMAH

AUM  SHOOLAPANAYAAYA NAMAH

AUM PINAKPANAYE NAMAH

AUM PASHUPATAYE NAMAH

6. On the night of Shivratri, from 11.45 pm to 1.30 am , let us all recite mahamrityunjaya mantra with the resolve to wish good health and long life for our beloved Pujya Sadgurudev Lord. Recite 11 times (not 11 malas, only 11 times) and then offer one recitation in His name.
Sureshanandji Haridwar 11.02.2010

1 comment:

kunwarji's said...

जीवनोपयोगी कुंजियां vaastav me bahoot upyogi hai jeevan ke liye.......