Search This Blog

Monday, April 8, 2013

चंद्रग्रहण - ( 26th April 2013)

२६ अप्रैल २०१३ को चंद्रग्रहण है | ग्रहण का समय रात को १ से २ के बीच में है |
उस समय बैठ के गुरुमंत्र का जप करना और जिनको समस्याएँ बहुत आती है वे लोग उस समस्याओं को नष्ट करने हेतु ग्रहण के समय एक तो चन्द्रमा को वंदन करना क्योंकि चंद्रग्रहण है |

चन्द्रमा को प्रणाम करते हुये –
ॐ ऐं  क्लीं सोमाय नम:|   ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम: |  ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम: |

 इसकी १–२ माला कर ली चंद्रग्रहण के समय और फिर १० माला –
ॐ ह्रीं नम: |  ॐ ह्रीं नम: |  ॐ ह्रीं नम: | 
ॐ ह्रीं नम: | की  १० माला करने से मंत्र सिद्ध होता है | गुरुदेव का स्मरण करते हुये मन ही मन गुरुदेव से अनुमति लेकर १० माला जप करना कि हमारे जीवन में विघ्न बहुत है ये नष्ट होंगे हम ग्रहण के समय जप कर रहे है | हमारा मंत्र सिद्ध होगा | १० माला करने से मंत्र सिद्ध होता है फिर १-२ माला रोज करते रहे तो जिनके जीवन विघ्न आते है कोई भी वे नष्ट हो जायेंगे |

और विघ्न के बारे में सोचते न रहो | हनुमानजी की तरह, दूसरी वानर सेना सोच रही थी की समुद्र कैसे पार करेंगे ? हनुमानजी ये न सोचकर राम सुमिरन में तल्लीन, तो वो पार भी कर गये |

Lunar Eclipse (on 26th April 2013 )

There is lunar eclipse on 26th April 2013. The period of eclipse is from night 1 am to 2 am. Reciting Gurumantra during this time and those who have numerous troubles in life, they should offer oblations to Moon at this time.

While prostrating to the moon,
AUM AIM KLEEM SOMAAYA NAMAH.... AUM AIM KLEEM SOMAAYA NAMAH.... AUM AIM KLEEM SOMAAYA NAMAH....

Recite 1-2 malas of above mantra and then recite 10 malas of : AUM HREEM NAMAH... AUM HREEM NAMAH... AUM HREEM NAMAH... Reciting ten malas will offer full accomplishment of its powers. While praying to Gururdev, ask for his blessings to overcome troubles in life thorugh accomplishing the powers of this mantra. Then even reciting a few malas daily thereafter will offer appeasement from life's pangs.

Also, never keep pondering about problems. The entire army was pondering on how to cross the vast ocean whereas Hunumanji simply immersed himself quietly in the inner sanctrum of divine bliss and was able to even cross the ocean before anyone else.

Listen Audio

- Shri Sureshanandji Surat 27th Mar' 2013

1 comment:

Anonymous said...

Hari om prabhuji. Dhanawad ye tips batane ke liye.