Search This Blog

Wednesday, March 28, 2012

दुर्दशा निवारण योग

दुर्दशा निवारण योग :- 1st April' 2012 (दोपहर को दो बजे से) , 26th Aug' 2012

समझो आदमी से कोई भूलें हुई है और उसके जीवन में उसकी दशा बहुत खराब है । इस दुर्दशा का निवारण कैसे हो ??
तो कश्यपजी ने बताया कि प्रायश्चितपूर्वक अगर कोई व्यक्ति, शुक्लपक्ष को दशमी तिथि हो और रविवार का योग हो उस दिन कोई प्रायश्चितपूर्वक श्रद्धाभक्तिभाव से ये नियम करे, तो उसकी दुर्दशा माने दरिद्रता, झगड़े, विफलता, बीमारी, अशांति, इनके निवारण हेतु स्कंदपुराण में सूर्यपूजा से संबंधित ये योग बताया गया है
यह योग शुक्‍लपक्ष, दशमी तिथि हो और रविवार का योग पड़ता हो उस दिन किया जाता है और वह योग अब 1 अप्रेल 2012 को दोपहर को दो बजे से आ रहा है । फिर 26 अगस्‍त 2012 को अधिक मास में । इस साल ये दो योग बहुत अच्‍छे है ।

पूजन विधि :-
दुर्दशा निवारण हेतु स्‍कन्‍दपुराण के अनुसार महर्षि कश्‍यपजी, नारदजी को बताते है । उस दिन भगवान गणपतिजी का, सदगुरूदेव का और सूर्यदेव का मन ही मन स्‍मरण करे । गुरूदेव का सुमिरण करते हुए उनका पूजन करते हुए उनको मन ही मन प्रणाम करे । गणपतिजी का सुमिरण करते हुए गं गणपतये नम: आदि मंत्रों से उनका पूजन करे और सूर्य भगवान को मन ही मन सूर्य गायत्री मंत्र ( "ॐ आदित्याय विदमहे भास्कराय धीमहि तन्नो भानु प्रचोदयात्") आदि बोलते हुए प्रणाम करे । उनका सुमिरण करे और प्रार्थना करे कि मेरी समस्‍त प्रकार की दुर्दशा के निवारण हेतु आज हम यह पूजन कर रहे है । और लोटे में जल भरकर के फूल डाल दे,अक्षत डाल दे, कुंकुम डाल दे, और सूर्य को अर्ध्‍य दे, सूर्याय नम:, अर्काय नम:, ऐसे अर्घ्‍य दे । फिर दुर्दशा प्रदान करनेवाली 10 देवियां है जो कश्‍यप ऋषि नारदजी को बता रहे है उन 10 देवियो ंको भी अर्ध्‍य दे दें, उनके नाम इस प्रकार है :
ॐ दुर्मुख्‍यै नम:, दीनबदनाय नम:, ॐ मलिनायै नम-, ॐ सत्‍यनाशिन्‍यै नम:, ॐ बुद्धिनाशिन्‍ये नम-, ॐ हिंसायै नम:, ॐ दुष्‍टायै नम:, ॐ मित्रविराधिन्‍यै नम:, ॐ उच्‍चाटनकारिन्‍यै नम:, ॐ दुश्‍चिंताप्रदायै नम:, ।

Listen Audio
- श्री सुरेशानंदजी Navi Mumbai 21st March'2012

6 comments:

COLLATION said...

कोमा से बाहर आने के लिये koi upaye batye 2 mahine se papa koma hai.

om said...

Hari Om Ji,

कोमा से बाहर आने के लिये:-

http://successful-life-tips.blogspot.in/2008/10/blog-post_16.html

कोमा से बाहर आने के लिए

२० बूँद तुलसी के रस में १ चुटकी सैंधा नमक , मरीज के नाक में डाल दें और `एं एं` जपते हुए तिल के तेल से सर की मालिश करें और पैरों के तलवों पर भी तिल या सरसों के तेल की मालिश करें ।

मरीज को AC me न रखे और फलो का रस (Fruit Juice) न दे... जरुरत पड़े तो मूंग का पानी दे.

-Satsang

Es se jarur labh hoga.

Hari Om.

Anonymous said...

My wife is suffering with Psoriasis and psoriatic Arthritis from last 13 years. She also have severe pain in all the joints. Koi upay bataye bapuji.
Hari OM

om said...

Hari Om Ji,

For joint's pain...

http://successful-life-tips.blogspot.in/2012/02/blog-post_9658.html

जोड़े के दर्द में ( सभी प्रकार के दर्द में )

अगर जोड़ो का दर्द है... मेथी दाना पीस के रख दिया ... १ चम्मच मेथी दाना, १/२ चम्मच हल्दी और १/२ चमच गंथोदा (जिसे पीपरामूल चूर्ण भी कहते हैं ...पंसारी के यहाँ मिलते है ) कुल मिला के २ चम्मच हो गए | रात को एक गिलास पानी में भिगा दो | सुबह उबाल के उसका आधा गिलास कर दो .... छान के पी लो | २०-२५ दिन में घुटनों का कैसा भी तकलीफ़ होगा भाग जायेगा ... नहीं भागता तो ३० दिन करो | ये केवल जोड़ो के दर्द ही नहीं सभी दर्द में आराम देता है । आश्रम में इस के packet भी मिलते है ।

[listen] Listen Audio

- पूज्य बापूजी Sitamau 1st Feb' 2012

This medicine is also available at ashram ..known as shulnashak buti. This is powerful medicine for all joint's pain.

For Psoriasis and psoriatic Arthritis problem....

Please contact nearest ashram's Vaidya
or Ahemadabad Ashram's vaidya :
They will give u proper guidance.

Num : 079/27505010- 27505011
(call after 1 pm)

Om

GANPAT AGARWAL said...

Hari om, hair me khusaki bahut rahti h aur hair v
Jharte h.... koe upay bataye na pls

om said...

Hari Om Ganpat bhai,

Related Links:

http://successful-life-tips.blogspot.in/2011/12/blog-post_6864.html

बाल झड़ना
गाजर, प्याज और हरा धनिया का रस पीने से या कचुम्बर खाने से बाल झड़ना बंद हो जाते हैं । इसमें मौजूद फास्फोरस बाल झड़ना रोकता है । खजूर में भी फास्फोरस पाया जाता है ।
Listen Audio
पूज्य बापूजी Kanpur-18th Dec. 2011

http://successful-life-tips.blogspot.in/2012/04/blog-post.html

http://successful-life-tips.blogspot.com/2010/02/blog-post_1609.html

OM