Search This Blog

Wednesday, July 24, 2013

चावल और गेहूं का आटा

" आप घर में चावल तो खाते हो .... पर polished चावल की कमजोरी है ( साफ होते हैं .... दिखने में भी सफ़ेद होते हैं , पक भी जल्दी जाते हैं .... पच भी जल्दी जाते हैं ) लेकिन चावल में जो विटामिन्स होते हैं उसका काफी हिस्सा पॉलिश के पाउडर में निकल जाता है .... उसमे से तेल निकालते है ...." और
"गेहूं पिसाते हैं उसके साथ १० % मकई का आटा मिलना चाहिए .... तो मकई का तेल भी निकलता है वो colestrol free होता है .... मकई का आटा गेहूं के आटे में मिलाकर खाते हैं तो चमड़े जैसी गेहूं की रोटी बन जाती है वो सूखापन हट जाता है और सुपाच्य भी हो जाती है ...और tasty भी हो जाती है । "

Wheat and rice Flour
"You mostly have polished rice at home (They are white in colour, clear grained and are easy to cook and even digest). But these rice lack the necessary vitamins which get removed when they polish the rice... Rice oil is extracted from this polish powder." and
"When you get wheat ground from the flour mill, mix 1 kg of corn flour for every 10 kg of wheat flour. Oil extracted from corn is cholesterol free... Also, if you mix the two to prepare wheat dough using this proportion, it prevents the wheat roti from becoming hard like leather. It removes the dryness from the roti, aids digestion and makes the preparation tasty too."

Listen Audio

- पूज्य बापूजी Panchkula 26/11/2011

No comments: